नींबू का रस करता है गुर्दे की पथरी को जड़ से ठीक! जानिए कैसे करे इस्तमाल।

Uncategorized

आजकल की जीवनशैली और खान-पान की अनियमितता के कारण लोगों को तरह-तरह की बीमारियों ने घेर रखा है। ऐसी ही खान-पान से जुड़ी एक बीमारी पथरी है, जिसमें व्यक्ति के भीतरी अंगों में मिनरल्स और नमक आदि के धीरे-धीरे इकट्ठा होने से एक ठोस जमावट हो जाती है।

इसी ठोस जमावट को पथरी कहते हैं। पथरी का आकार रेत के दाने से लेकर गोल्फ की गेंद जितना बड़ा हो सकता है। पथरी के कारण किडनी के आसपास कई बार बहुत भयानक दर्द होता है और इससे मूत्र मार्ग में अवरोध भी उत्पन्न हो सकता है। पथरी के रोगियों में सबसे ज्यादा लोग गुर्दे यानि किडनी की पथरी से परेशान होते हैं।

लेकिन किडनी की पथरी को कुछ प्राकृतिक उपचारों से आसानी से ठीक किया जा सकता है। नींबू के रस की थैरेपी भी पथरी को ठीक करने के लिए बहुत लाभकारी है।

दरअसल पथरी और कुछ नहीं ऑक्जालेट और सोडियम जैसे कई तत्वों का जमाव है जो धीरे-धीरे ठोस रूप ले लेता है। बहुत महीन आकार की पथरी मूत्र मार्ग से मूत्र त्याग के साथ ही निकल जाती है लेकिन कई बार जब ये पथरी नहीं निकल पाती तो एक जगह जमा होने लगती है और पथरी के छोटे-छोटे कण मिलकर एक बड़ा रूप ले लेते हैं। अब ये बड़ी पथरी मूत्र मार्ग में आती है पर निकल नहीं पाती और इसकी वजह से कई बार मूत्र भी रुक जाता है, तब परेशानी और ज्यादा बढ़ जाती है।

नींबू के रस में साइट्रिक एसिड की मात्रा बहुत ज्यादा होती है जो धीरे-धीरे ऑक्जालेट और सोडियम आदि तत्वों के इस जमाव को घुलाता रहता है। घुलने के बाद पथरी के छोटे-छोटे कण मूत्र मार्ग से ही निकलते रहते हैं। इसके अलावा अगर आप नींबू के रस का ऐसा प्रयोग रोज करते हैं शरीर में अतिरिक्त पदार्थों का अनावश्यक जमाव नहीं होता है और पथरी बनने की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है। पथरी के रोगी को डॉक्टर भी यही सलाह देते हैं कि ज्यादा से ज्यादा पानी पियो और तरल पदार्थों का सेवन करो। ऐसे में बहुत सारे लोग दिनभर पानी पीते-पीते ऊब जाते हैं तो नींबू पानी पीना उन्हें स्वादिष्ट भी लगता है और इससे उनके शरीर में पानी की कमी भी नहीं होती है। पानी शरीर के विषाक्त और दूषित पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है इसलिए इसे पीना पूरे शरीर के लिए लाभदायक होता है।

इस पेय को बनाना बहुत आसान है। इसे बनाने के लिए एक ग्लास गुनगुने पानी में एक पूरा नींबू का रस निचोड़ लें। अब इस पानी में एक चम्मच चीनी और आधा चम्मच जैतून का शुद्ध तेल मिलाएं। इसे अच्छी तरह मिलाकर पी लें। दिन में दो बार जैतून का तेल मिलाकर पी लें और बाकी दिन में जब भी प्यास लगे तो बिना इस तेल के सादा नींबू पानी और चीनी पी लें। इससे आपका शरीर हाइड्रेट रहेगा, शरीर में पानी की कमी नहीं होगी और पथरी धीरे-धीरे गल कर मूत्र मार्ग से बाहर निकल जाएगी। पथरी अगर छोटी है तो इस पेय के लगातार प्रयोग से धीरे-धीरे किडनी से निकल जाती है और आप पूरी तरह स्वस्थ हो जाते हैं लेकिन अगर पथरी बड़ी है तो इन उपचारों का असर उनपर धीरे-धीरे होता है और समय बढ़ने के साथ-साथ खतरा भी बढ़ता जाता है। इसलिए अगर पथरी का आकार बड़ा हो तो घरेलू नुस्खों के साथ-साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।