वन माफिया पर विभाग की सबसे बड़ी करवाई कार्रवाई, एक्शन शुरू थर-थर कांपे माफिया गिरोह !

देश

हिमाचल की सरकार ने वन माफिया पर लगाम कसने के लिए नया प्लान बनाया है।  हिमाचल में वन माफिया पर नकेल कसने के लिए अब हर जिले में टास्क फोर्स गठित की जाएगी। शिमला जिले में 400 से अधिक पेड़ों के कटान और अब सिडार (देवदार) तेल की चोरी पकड़े जाने पर सरकार ने हर जिले में डीएफओ की अध्यक्षता में टास्क फोर्स गठित करने के निर्देश दिए हैं। ये टास्क फोर्स अपने-अपने क्षेत्रों का दौरा कर वन माफिया पर नजर रखेंगी। 

टास्क फोर्स ने दिन में कहां कहां व किस बीट का निरीक्षण किया है, इसकी जानकारी मुख्यालय को देनी होगी। रात की गश्त के दौरान टीम के सदस्यों को हर सुविधा से लैस किया जाएगा।

दूसरी तरफ शिमला के चौपाल क्षेत्र में बड़े स्तर पर सिडार वुड ऑयल निकालने का गौरखधंधा चल रहा है। वन विभाग की टीम ने ग्रुप पेट्रोलिंग करके करीब 20 हजार लीटर सिडार वुड ऑयल जब्त किया है। शिमला ग्रामीण और चौपाल डीएफओ की अध्यक्षता वाली 21 सदस्यीय टीम ने रविवार को ग्रुप पेट्रोलिंग करके 20 हजार लीटर सिडार ऑयल जब्त किया है। क्षेत्र में 16 और नई भट्ठियों का भी विभाग की स्पेशल टीम ने पर्दाफाश किया है।

बता दें कि पकड़े गए 20 हजार लीटर में से 15 हजार लीटर पुराना सिडार ऑयल है। विभाग के अनुसार जिन लोगों से ऑयल पकड़ा गया है, उनका दावा है कि उन्होंने इस ऑयल को 2013 से पहले का निकाला है, लेकिन जांच के दौरान 3800 लीटर ऑयल ताजा निकाला गया है। इस गोरखधंधे में विभागीय कर्मचारियों के मिले होने का भी अंदेशा जताया जा रहा है। मामले में रोज नए खुलासे होने के बाद आरओ और डिप्टी रेंजर की मुश्किलें भी बढ़ती नजर आ रही हैं।

वहीं, डीएफओ चौपाल एमएस चंदेल ने बताया कि सिडार वुड ऑयल मामले की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि आज यानी सोमवार को जांच रिपोर्ट सरकार को सौंप दी जाएगी।