स्वास्थ्य : मर्दाना ताकत बढ़ाने का सबसे अचूक उपाय,इसका सेवन करते ही नामर्द भी बन जाएगा घोड़े जैसा मर्द !

Uncategorized

आज के समय में ज्यादातर पुरुषों में प्रजनन की समस्या पैदा हो रही है। जिसका इलाज पैसा खत्म करने के बाद भी नहीं मिल पा रहा है। ये एक ऐसी समस्या है कि इसमें कुछ लोगों को संतान का खुश नहीं मिल पाता है। उनके अंदर सेक्स पावर झमता कम होने लगती है। जिसके लिए वो डॉक्टरों से लेकर मंदिर मस्जिद और भभूत तक इस्तेमाल कर रहे हैं।ये सारी जानकारी इन्टरनेट के माध्यम से ली गयी है !

अक्सर कहा जाता है के सर्दियों में किया गया भोजन पूरा वर्ष शरीर को पुष्ट करता है. विवाहित पुरुषों के लिए ये मौसम बहुत बढ़िया रहता है. इस मौसम में अपनाये गए विशेष घरेलु नुस्खे सदियों से बल वीर्य शक्ति बढाते आये हैं. इसी कड़ी में हम आपको बताएँगे 200 ऐसे रामबाण नुस्खे जो न पुं स क ता, शी घ्र प त न, वीर्य के तमाम रोग दूर कर के धातु को पुष्ट कर के बल वीर्य को बढ़ा कर आपको अपार शक्ति भर देंगे, इनमे से कुछ नुस्खे तो ऐसे हैं जिनको अपनाकर नामर्द भी मर्द बन जाता है. अर्थात अपार बल और वीर्य बढ़ता है. इनसे बल और वीर्य तो बढेगा ही साथ ही कमर, हड्डियों और दूसरी शरीरिक कमजोरियां भी दूर होंगी.

आइये जानते हैं नपुंसकता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाला पहला नुस्खा.
इस नुस्खे के लिए ज़रूरी सामान.

सफ़ेद प्याज का रस (अगर ना मिले तो लाल प्याज भी चलेगा) – 8 ग्राम.

अदरक का रस – 6 ग्राम.

शहद – 4 ग्राम.

घी – 3 ग्राम.
न पुं स क ता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाला पहला नुस्खा

जैसा के पीछे बता दिया गया है के इस नुस्खे में ज़रूरी 4 सामान की आवश्यकता है. ये सारा सामान आपको ताज़ा ही लेना है. अर्थात प्याज का रस और अदरक का रस ताज़ा ही लेना है.कई लोगों को यहाँ पर ये सोचना होगा के शहद और घी को मिलाने से टोक्सिन बनते हैं, तो उनको बता देना चाहते हैं के शहद और घी कभी भी बराबर मात्रा में नहीं लेने चाहिए. इनकी मात्रा में हमेशा शहद और घी की मात्रा कम ज्यादा होनी चाहिए, अर्थात एक की कम और दुसरे की ज्यादा. ऐसा करके अनेक आयुर्वेदिक नुस्खे बनाये जाते हैं.

प्याज के रस अदरक के रस शहद और घी को आपस में मिला लीजिये, और इसका सेवन आपको सवेरे ही करना है. और इस प्रयोग को करने के एक घंटे तक कुछ ना खाएं. यह प्रयोग कम से कम 2 महीने से 3 महीने तक निरंतर करना है. जिन लोगों की धातु ज्यादा पतली हो गयी है वो ये प्रयोग करने के 15 दिन तक सम्भोग ना करें. और इसके बाद यह प्रयोग वो सुबह और शाम में दो समय भी कर सकते हैं. इस प्रयोग की सफलता इसी पर आधारित है के ये प्रयोग आपको निरंतर करना है. बीच में छोड़ देंगे तो थोड़े दिन तो जान रहेगी मगर फिर कमजोरी आ घेर लेगी. कम से कम 3 महीने तक निरंतर करने के बाद फिर आप ये प्रयोग अगली सर्दियों में कर सकते हैं.

https://youtu.be/ZP8YpVcbEGU

इसके अलावा इस प्रयोग को इस प्रकार से भी कर सकते हैं.अदरक का रस 6 ग्राम, प्याज का रस 12 ग्राम, शहद 3 ग्राम, देसी घी 4 ग्राम. इन सबको मिलाकर सवेर ही चाटने से 41 दिन में बहुत अधिक ताक़त आ जाएगी. यह प्रयोग भी तभी सफल होगा अगर इसको कम से कम 3 महीने तक किया जाए.