गर्भावस्था में ये शुरुआती लक्षण देते हैं,जुड़वा बच्चों का संकेत जानिए क्या है वो लक्षण।

Uncategorized

गर्भवती महिला के एक ही गर्भावस्था के दौरान पैदा होने वाले दो बच्चों को जुड़वा कहते हैं। अक्सर जुड़वा बच्चों में रूप-रंग की काफी समानता होती है।

कई बार जुड़वा बच्चे अलग-अलग प्रकृति के भी होते हैं क्योंकि वे दो अलग अलग अंडो में दो भिन्न-भिन्न शुक्राणुओं द्वारा निषेचित होते हैं। जुड़वां गर्भधारण सामान्य गर्भधारण से काफी अलग है।

जुडवां गर्भधारण में समय से पहले डिलिवरी और जन्म के समय बच्चे के वजन कम होने की अधिक संभावना होती है। । आइए जानें कि जुड़वा बच्चों की गर्भवती के शुरूआती लक्षण क्या-क्या है।

मॉर्निग सिक्नेस

जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती महिला के प्रारंभिक लक्षण में मॉर्निग सिक्नेस बहुत ज्यादा होती है। पचास प्रतिशत से अधिक महिलाएं अपनी गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में ही मतली और जी मिचलाना का अनुभव शुरू कर देती हैं। महिला जिनके जुड़वा बच्चे होने वाले है अन्य गर्भवती महिलाओं की तुलना में मॉर्निग सिक्नेस का अनुभव अधिक करती है।

ब्लीडिंग और स्पोटिंग

एक महिला जो जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती है उसको स्पोटिंग और ब्लीडिंग होने की संभावना अधिक होती है। अगर आप गुलाबी और भूरे रंग के धब्बे नोटिस करते है तो यह अत्यंत सामान्य बात है। यदि आपके ब्लीडिंग हो रही है और साथ में बुखार और लाल खून के धब्बे नहीं है तो डरने की कोई बात नही हैं।

वजन

जुड़वां गर्भावस्था में वजन सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक होता है क्योंकि आपके दो बच्चे, दो प्लासन्टा और अधिक एमनियोटिक द्रव के साथ होते है। एक औसत गर्भावस्था में सामान्य वजन 25 पाउंड होता है जबकि जुड़वां गर्भावस्था में यह 30 से 35 पाउंड के बीच हो सकता हैं।

दो दिल

बच्चे के दिल की धड़कन पहली बार सुनना हर माता पिता के लिए सबसे यादगार अनुभव होता है। बच्चे के जन्म से पहले आप डॉपलर प्रणाली के माध्यम से अपने बच्चे के दिल की धड़कन सुन सकते हैं। गर्भावस्था के नौवें सप्ताह से जुड़वा बच्चों के दिल की धड़कन अलग-अलग से सुनी जा सकती है। हालांकि, यह इतना आसान नहीं है क्योंकि इनकी पहचान को कभी-कभी अलग नहीं किया जा सकता है।

जल्दी डिलिवरी और सिजेरियन

जुड़वा गर्भावस्था के साथ महिलाओं में समय से पहले डिलिवरी होने की अधिक संभावना होती है। लेबर पेन गर्भावस्था के 36 या 37 सप्ताह के बीच में हो सकते है। इस के अलावा, जुड़वां गर्भावस्था में बच्चे ज्यादातर ब्रीच स्थिति में होते है जिस कारण डिलिवरी नॉर्मल की जगह सिजेरियन होने की संभावना बढ़ जाती है।

हमेशा भूख लगना

जुड़वां गर्भावस्था के लक्षणों में से सबसे बड़ा लक्षण यह है कि आपको हमेशा भूख लगेगी। जुड़वां गर्भावस्था में महिला को सामान्य गर्भावस्था में महिला की तुलना में अधिक खाने की जरूरत महसूस होती है। यदि आप भी जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती हैं तो आपको भी लगातार भूख लगेगी।

जुड़वां गर्भावस्था की संभावना

30 और 40 वर्ष में महिलाओं को जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती होने की संभावना अधिक होती हैं। इसका कारण यह है जैसे आप बड़े होते है ओवुलटरी चक्र में संघनता कम हो जाती है। इस स्तर पर अधिक संभावना होती है एक ही समय में दो बच्चों की। जुड़वा गर्भावस्था और सामान्य गर्भावस्था में बहुत अधिक अंतर नहीं होता, लेकिन जुड़वा गर्भावस्था में वजन और थकान अधिक बढ़ने लगती है। गर्भावस्था के सामान्य लक्षण रहते हुए भी जुड़वा गर्भावस्था में जोखिम कई बार बढ़ जाते हैं। बहरहाल, गर्भावस्था कैसी भी हो देखभाल और सावधानी बेहद जरूरी है।