दिल्ली में GST परिषद की 25वीं बैठक में CM जय राम ने प्रदेश का पक्ष रखा,अब आया बड़ा बयान, जगी कई उम्मीदें।

देश

GST की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है जिससे छोटे कारोबारियों को बहुत राहत मिली है साथ ही अब हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का भी बड़ा बयान GST को लेकर सामने आया है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भरोसा दिलाया है कि हिमाचल में जीएसटी को प्रभावी ढंग से लागू किया जाएगा। केंद्र से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) नियमों तथा दर संरचना में त्रैमासिक या छह मास के आधार पर परिस्थितियों को देखते हुए पर्वितन करने का आग्रह किया।

यह बदलाव महीने की पहली तारीख को अधिसूचित या लागू होने चाहिए। वीरवार को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में जीएसटी परिषद की 25वीं बैठक में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश का पक्ष रखा। बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की।

मुख्यमंत्री जयराम ने कहा कि जीएसटी से प्रभावित होने वाले हितधारकों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर सुनने की जरूरत है। जीएसटी पोर्टल पर कार्यान्वयन विभागों के लिए प्रबंधन सूचना प्रणाली (एमआइएस) उपलब्ध नहीं करवाई गई है, जिसकी अनुपस्थिति के कारण राजस्व प्राप्तियों व करदाताओं की विवरणियों का विस्तृत विश्लेषण संभव नहीं हो पाया है।

नई कर प्रणाली में कर चोरी को पकड़ने के लिए प्रणाली के प्रौद्योगिकी समाधानों में उपयुक्त व्यापार ज्ञान उपकरणों का प्रयोग किया जाना चाहिए। ई-वे बिल के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए संबंधित प्रवर्तन प्रारूप, इनफोरसमेंट मॉडयूल को शीघ्र तैयार किया जाना है। उन्होंने इसके लिए पूर्ण परस्पर सशक्तीकरण से संबंधित शक्तियों को शीघ्र अधिसूचित करने का आग्रह किया।

प्रदेश में जीएसटी को सुचारू एवं प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए बेहतर कदम उठाने का आश्वासन दिया।वस्तु एवं सेवा कर परिषद की बैठक में बोले मुख्यमंत्री,कर चोरी पकड़ने के लिए व्यापार ज्ञान उपकरण इस्तेमाल होगा। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने भाजपा का विजन डॉक्यूमेंट जारी करते हुए व्यापारियों को राहत देने की बात कही थी।