Breaking News : GST काउंसिल की बैठक में छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत,दुकानदारों में ख़ुशी की लहर।

देश

जीएसटी को लेकर छोटे कारोबारियों को बहुत बड़ी राहत केंद्र की मोदी सरकार ने दी है जिससे छोटे कारोबारियों में खुशी की लहर दौड़ ड्यूटी है जीएसटी का फैसला लेना कोई आसान फैसला नहीं था यह बहुत कड़ा फैसला था देश हित में जिसे मोदी सरकार ने लिया था विरोध हुआ लेकिन अब जब जनता और कारोबारी इसे समझ चुके हैं तो अब हर जगह इसकी तारीफ ही हो रही है वर्ल्ड बैंक भी जीएसटी को लेकर मोदी सरकार की तारीफ कर चुका है।

जीएसटी काउंसिल ने छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत दी है। काउंसिल की बैठक में हैंडीक्राफ्ट्स के 29 आइटम्स से टैक्स पूरी तरह खत्म करने का फैसला लिया है। बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि यह फैसला 25 जनवरी से लागू हो जाएगा। हालांकि, इस दौरान पेट्रोलियम उत्पादों पर अभी फैसला नहीं लिया जा सका।

पेट्रोलियम प्रॉडक्ट्स की कीमतों में बदलाव को लेकर आम जनता नज़र बना हुए है। दरअसल, पेट्रोलियम पदार्थों को भी जीएसटी के दायरे में लाने की वकालत हो रही है। लेकिन, फिलहाल गुरूवार की बैठक में इस पर फैसला नहीं हो सका।अगर पेट्रोलियम पदार्थ इस दायरे में आ जाते है तो पेट्रोल डीजल के दामों में भारी कटौती हो जायेगी।

कुछ लोग अभी तक GST को समझ नही पाये है हम उन्हें बता दें कि जीएसटी लागू होने से सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी, सर्विस टैक्स, एडिशनल कस्टम ड्यूटी (सीवीडी), स्पेशल एडिशनल ड्यूटी ऑफ कस्टम (एसएडी), वैट / सेल्स टैक्स, सेंट्रल सेल्स टैक्स, मनोरंजन टैक्स, ऑक्ट्रॉय एंड एंट्री टैक्स, परचेज टैक्स, लक्ज़री टैक्स खत्म हो चुके है।जीएसटी लागू होने से हर प्रकार की खरीद फरोख्त इस कर व्यवस्था के तहत आ चुकी है, जिससे लोगों के लिए टेक्स की चोरी कर पाना आसान नहीं होगा. जीएसटी काले धन से निपटने के लिए एक मजबूत हथियार साबित हो रहा है।

विश्व के लगभग 160 देशों में जीएसटी की कराधान व्यवस्था लागू है. भारत में इसका विचार अटल बिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा साल 2000 में लाया गया था और मोदी राज में ये सपना पूरा हुआ है।