ये है महिला नागा साधुओं की रहस्यमय दुनिया, हैरान कर देगी इससे जुड़ी बातें !

Uncategorized

आज हम आपको कुछ ऐसी जानकारी देने जा रहे हैं जिनके बारे में शायद ही आप पहले जानते हों !

हिन्दू धर्म और हिन्दू धर्म से जुड़े ऐसे बहुत से रहस्य हैं जिनके बारे में आज पूरी दुनिया जानने की इच्छा रखती है.आज से पहले आपने हमेशा सिर्फ नागा साधुओं के बारे में ही सुना होगा और साथ ही उनकी रहस्यमय दुनिया के बारे में भी तो जरूर सुना होगा. लेकिन आज हम आपको महिला नागा साधुओं के बारे में बताने जा रहे हैं क्या आप जानते हैं कि महिला नागा साधुओं की दुनिया भी कम रोचकता से भरी हुई नहीं है. बल्कि ये कहना गलत नहीं होगा कि हम में से अधिकतर लोगों को ये बात पता ही नहीं है कि महिला नागा साधुओं का भी अस्तित्व है.

आइए हम आपको बताते हैं महिला नागा साधुओं से जुड़ी हुई रोचक बातें. सन्यासिन बनने से पहले महिला को 6 से 12 साल तक कठिन ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है. इसके बाद गुरु यदि इस बात से संतुष्ट हो जाते हैंं कि महिला ब्रह्मचर्य का पालन कर सकती है तो उसे दीक्षा देते हैंं.महिला नागा सन्यासिन बनाने से पहले अखाड़े के साधु-संत महिला के घर परिवार और पिछले जीवन की जांच-पड़ताल करते हैंं.

जो नागा साधू होते हैं अगर उन्हें ही हम पाकिस्तान के सामने खड़ा कर दें तो वो पुरे पकिस्तान की ऐसी तैसी कर सकते हैं नागा साधुओं का हुनर बिलकुल अलग तरह का होता है उनका कोई भी मुकाबला नहीं कर सकता. महिला नागा साधू बनने से पहले महिला को 6 से 12 साल तक कठिन ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है. इसके बाद गुरु यदि इस बात से संतुष्ट हो जाते हैंं कि महिला ब्रह्मचर्य का पालन कर सकती है तो उसे दीक्षा देते हैंं.

महिला नागा सन्यासिन बनाने से पहले अखाड़े के साधु-संत महिला के घर परिवार और पिछले जीवन की जांच-पड़ताल करते हैंं.महिला को भी नागा सन्यासिन बनने से पहले स्वंयंं का पिंडदान और तर्पण करना पड़ता है.जिस अखाड़े से महिला सन्यास की दीक्षा लेना चाहती है, उसके आचार्य महामंडलेश्वर ही उसे दीक्षा देते हैंं.महिला को नागा सन्यासिन बनाने से पहले उसका मुंडन किया जाता है और नदी में स्नान करवाते हैंं. देखें ये विडियो !