पति – पत्नी की इस बड़ी गलती की वजह से बच्चा पैदा होता है किन्नर,चौंक जायेंगे आप भी इस वजह को जानकार !

Uncategorized

इस दिन एक दूसरे से दूर रहना चाहिए पति-पत्नी को वरना पैदा हो सकते हैं किन्नर..

हिन्दू धर्मशास्त्र में इंसानों के जन्म मृत्यु से जुड़े ऐसे बहुत सारे रहस्य है, जिनपर से शायद ही कभी पर्दा उठ पाए लेकिन आज की ये खबर आपको थोडा सचेत जरूर हो सकते हैं. हमारे शास्त्रों में एक गर्भ शास्त्र भी है जिसके अनुसार पति पत्नी को किस वक़्त एक दूसरे के साथ होने से सुंदर और स्वस्थ्य अच्छे पैदा आते हैं और किस वक़्त साथ होने से उनके बच्चे किन्नर पैदा हो सकते हैं. आज हम आपको इसी विशेष गर्भपुराण के बारे में कुछ मूल बातें बताने जा रहे हैं जिसे जानना सबके लिए बेहद जरुरी है.गर्भ संस्कार के अनुसार यदि शुभ दिन पर एक स्त्री गर्भधारण करे, तो आने वाली संतान भी मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ एवं गुणी भी होती है। लेकिन अशुभ दिन पर गर्भधारण करने से सभी अशुभ ग्रहों का असर होने वाली संतान पर होता है। फिर पैदा होने के बाद ऐसी संतान एक के बाद एक परेशानियां खड़ी करती है।

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि गर्भ पुराण में बहुत सी ऐसी बातें कही गयी हैं जिसके बारे में अगर आप भी जान लें तो आपको कभी भी संतान सुख से ना तो वंचित रहना पड़ेगा और ना ही आपका संतान किसी त्रुटि के साथ पैदा होगा. गर्भ पुराण में ऐसा कहा गया है कि एक समय ऐसा भी होता है जब अगर पति पत्नी संभोग करें तो उनके बच्चे किन्नर पैदा हो सकते हैं. नौ महीनों तक जब शिशु माँ के गर्भ में पल रहा होता है तो उस दौरान होने वाली सभी घटनाओं और परिवेशों का शिशु पर प्रभाव पड़ता है.

गौरतलब है कि गर्भ पुराण में ये भी बताया गया है कि आखिर कैसे गर्भ में ही किन्नर आ सकता हैं और ऐसा क्या होता है कि माँ के गर्भ में ही शिशु किन्नर के रूप में परिवर्तित हो जाता है. गर्भ पुराण के अनुसार पति पत्नी के किसी विशेष दिन शारीरिक संबंध बनाने से शिशु किन्नर के रूप में पैदा होते हैं. इसमें कुछ ऐसे दिनों का उल्लेख किया गया है जिस दिन पति पत्नी को एक दूसरे के निकट नहीं आना चाहिए अन्यथा उनके बच्चे किन्नर के रूप में इस दुनिया में आ सकते हैं.

हिजड़ा का इतिहास काफी पुराना है जबसे मनुष्य जाति धरती पर है तभी से हिजड़ा का इतिहास है ! महाभारत और रामायण के पन्नों को पलटेंगे तो पता चलेगा कि वहां पर हिजड़ों का इतिहास रहा है ! पहले किन्नर राजाओं एवं महाराजाओं के घर पर नाचने और गाने के काम क्या करते थे साथ ही शादी व बच्चों के जन्म पर भी वह नाच-गाना करते थे ! शादी में नाच-गाने का काम अभी भी करते हैं जो उनका आय का मुख्य स्रोत है .