स्नान करते वक़्त जपे एक मंत्र,पानी की तरह बरसेगा धन !

Video

स्नान करते समय जपें ये एक मंत्र बारिश के पानी की तरह बरसेगा पैसा,ऐसे बहुत से टोटके होते हैं जिनमें हमारे भाग्य को बदलने की पूरी ताकत होती है लेकिन वो हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम उन पर विस्वास करते हैं या नहीं !!

हिन्दू धर्म अनुसार स्नान और ध्यान का बहुत महत्व है.स्नान के पश्चात ध्यान, पूजा या जप आदि कार्य सम्पन्न किए जाते हैं.हमारे शरीर में 9 छिद्र होते हैं उन छिद्रों को साफ-सुधरा बनाने रखने से जहां मन पवित्र रहता है वहीं शरीर पूर्णत: शुद्ध बना रहकर निरोगी रहता है.स्नान भी एक तरह के नहीं कई तरह के होते हैं हमेशा एक बात का ध्यान जरूर रखें स्नान करने से पहले और वो यह कि स्नान कभी भी खाना खाने के बाद नहीं करा चाहिए अक्सर लोग खाना खाने जे बाद स्नान करते हुए पाए जाते हैं जोकि बहुत ही गलत होता है हर तरफ से उसका नुकसान हमारे शरीर को भी होता है.

प्रात: काल स्नान : तीर्थ में प्रात: काल स्नान करने का महत्व है। प्रात: काल स्नान करने से दुष्ट विचार और आत्मा पास नहीं आते। मलपूर्ण शरीर शुद्ध तीर्थ मे स्नान करने से शुद्ध होता है। इस प्रकार दृष्टफल-शरीर की स्वच्छता, अदृष्टफल-पापनाश तथा पुण्य की प्राप्ति, यह दोनों प्रकार के फल मिलते हैं, अतः प्रातः स्नान करना चाहिए।

रूप, तेज, बल पवित्रता, आयु, आरोग्य, निर्लोभता, दुःस्वप्न का नाश, तप और मेधा यह दस गुण प्रातः स्नान करने वाले को प्राप्त होते हैं। अतएव लक्ष्मी, पुष्टी व आरोग्य की वृद्धि चाहने वाले मनुष्य को सदेव स्नान करना चाहिए ।

जीवन में मनचाही सफलता पाने के लिए रोजमर्रा कई उपाय किए जाते हैं पाठकों के लिए प्रस्तुत एक सरल उपाय जो आपको धनी बनाने के साथ-साथ अवश्य ही हर कार्य में सफलता प्रदान करेगा आज के समय में सभी को पैसे की जरूरत होती है प्रत्येक व्यक्ति धन पाने के लिए अनेक कोशिश करता है अतः नित्य कर्म से निर्मित हो जाने के पश्चात स्नान करते समय इस मंत्र का स्मरण अवश्य करे.