तारक मेहता वाली बबिता का ख़ुलासा- “मेरे टीचर के हाथ मेरे अंडरवियर में थे। हुआ था ये सब….”

Celebrities, Entertainment

मुंबई। टीवी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में बबिताजी का रोल करने वाली एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता भी अब हॉलीवुड सेलेब्रिटी एलिजा मिलानो के कैम्पेन #MeToo से जुड़ गई हैं। मुनमुन ने हाल ही में सोशल मीडिया पर अपने सेक्शुअल असॉल्ट की कहानी बयां की। मुनमुन ने कहा- कुछ ऐसा लिख रही हूं, जिसकी वजह से मेरे आंसू निकल रहे हैं। मैं अपने पड़ोस में रहने वाले एक अंकल से बहुत डरती थी। वो मौका पाते ही मुझे जकड़ लेते थे और धमकाते थे कि मैं ये बात किसी को ना बताऊं। और टीचर के हाथ मेरे इनरवियर में थे… 

मेरे ट्यूशन टीचर ने तो मेरे इनरवियर में हाथ डाल दिया था। इतना ही नहीं मेरा एक और टीचर था, जिसे मैं राखी बांधती थी वो क्लास में लड़कियों के ब्रा खींचता था और उनके ब्रेस्ट पर हाथ मारता था। यह सब इसलिए होता है क्योंकि आप इतनी छोटी और डरी हुई हैं। आपको लगता है कि आप आवाज नहीं उठा सकतीं। डर के मारे आपका गला सूख जाता है। यहां तक कि आपको लगता है कि पेरेंट्स से यह बात कैसे बताएंगी। 

जब मैं 13 की हुई तो उसने मुझे गलत तरीके से छुआ…
यहां तक कि मेरे कई कजिन मुझे अश्लील तरीके से देखते थे। इतना ही नहीं वो आदमी, जो अस्पताल में मेरे जन्म के समय था और बाद में जब मैं 13 साल की हुई तो उसने मुझे गलत तरीके से छुआ क्योंकि मेरे शरीर में बदलाव आ रहे थे। 


और आप पुरुषों से नफरत करने लगती हैं

कई बार ऐसी घटना के बाद आपके भीतर पुरुषों के लिए नफरत पैदा होने लगती है। आपको लगता है कि यही वो अपराधी है, जिसकी वजह से आपको ये सब झेलना पड़ा। इसके बाद आपको उस सदमे से उबरने में बरसों लग जाते हैं। 


किसी भी मर्द को सबक सिखा सकती हूं…

मुनमुन ने इस कैंपेन से जुड़ने पर लिखा- मुझे गर्व है कि मैं इस कैंपेन का हिस्सा हूं और लोगों तक अपनी यह बात पहुंचा रही हूं कि मुझे भी नहीं छोड़ा गया था। हां ये बात अलग है कि आज मैं किसी भी मर्द को सबक सिखा सकती हूं, जो दूर से भी मेरे बारे में गलत सोचे। मैं जो भी हूं, मुझे उस पर गर्व है।
महिलाओं का भरोसा जीत कर पूछें…

मुनमुन के मुताबिक, मैं हैरान हूं कि कुछ मर्द ये देखकर बौखला गए हैं कि इतनी बड़ी संख्या में महिलाएं इस तरह की घटनाओं पर बात कर रही हैं। वैसे ये सब उनकी नाक के नीचे ही हो रहा था। यहां तक कि उनके ही घर में, उनकी ही मां-बेटियों और नौकरानी के साथ। कभी उनका विश्वास जीतकर उनसे पूछने की कोशिश तो करो।