सऊदी अरब ने लिया बेहद चौकाने बाला फैसला, भारत-पाकिस्तान समेत दुनियाभर के मुसलमानों में हड़कंप

देश

भारत में असहिष्णुता का राग अलापने वालों को बड़ा झटका लगा है अवार्ड वापसी गैंग भी हैरान-परेशान हो गया है. मजहब के ठेकेदार बौखालये से दिखाई दे रहे हैं सऊदी अरब से आयी इस बेहद सनसनीखेज खबर को पढ़कर दरअसल भारत में वहाबी और कट्टरपंथी विचारधारा के लोगों की संख्या कुछ ज्यादा ही बढ़ चुकी है देश के उपराष्ट्रपति रह चुके हामिद अंसारी को अब भी मुस्लिम डरे हुये ही लगते हैं |

सऊदी के प्रिंस ने संकल्प लिया है कि इस्लाम को मॉडरेट बनायेंगे सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मुहम्मद सलमान के सत्ता संभालने से पहले ही सऊदी अरब में उदारवाद की हवा बहने लगी है बेहद रुढ़िवादी देश माने जाने वाले सऊदी अरब के शक्तिशाली शहजादे बिन सलमान ने देश में उदार और खुले इस्लाम के पालन का संकल्प जताया है उन्होंने रियाद में एक आर्थिक मंच पर कहा कि हम उस तरफ लौट रहे हैं जो हम पहले थे उदार इस्लाम वाला देश जो कि सभी धर्मों के लोगों के लिये खुला हो और सभी लोग वहाँ आराम से घूंम सकें |

मुहम्मद सलमान के इस बयान को लेकर कट्टरवादियों पर चाबुक माना जा रहा है मुहम्मद ने कहा कि हम अपनी जिंदगी के अगले 30 साल विनाशकारी विचारों के साथ निपटते हुए गुजारना नहीं चाहेंगे बल्कि हम उन्हें खत्म कर देंगे और हम जल्द अतिवाद को खत्म करेंगे जिससे पाकिस्तान बौखला उठा है अब जबकि अमेरिका खुद अब तेल का उत्पादन करने लगा है तो सऊदी की कमाई घटती जा रही है और बिना तेल बिक्री के सऊदी समेत अन्य सभी तेल उत्पादक देशों का तो धंधा ही बंद हो जायेगा |

ऐसे में सऊदी के सामने कमाई का एक ही जरिया बचा है की वो भी दुबई की तरह पर्यटन के सहारे किसी तरह कुछ कमाई कर ले मगर उसके लिए तो अन्य धर्मों को स्वीकार करना ही होगा और उनका सम्मान भी करना होगा तभी पर्यटक वहाँ जायेंगे कट्टर इस्लामिक देश बन रहे धर्म निरपेक्ष ऐसे में मौके की नजाकत को देखते हुए सऊदी ने “मॉडर्न सऊदी अरब” बनने का फैसला कर लिया है और पाकिस्तान बेचारा सऊदी के इस फैसले को देखता रह गया है |

सऊदी के राजकुमार सलमान ने सऊदी के लिए ‘विजन 2030’ भी बनाया है जिसके लिए सऊदी ने इजराइल से दोस्ती करने का फैसला भी कर लिया है क्यों कि तेल से होने वाली आय ख़त्म होते देख कई देश कट्टरवाद ख़त्म करने के लिए लग गए हैं हाल ही में दुबई ने भी मुसलमानों के सड़क किनारे गाड़ी रोककर नमाज़ पढ़ने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है और यदि कोई मुसलमान सड़क किनारे नमाज़ पढता पाया गया तो उसे 500 दिरहम यानी 8 हजार 800 रुपय का फ़ाइन भरना पड़ेगा |

दुबई तो हिन्दू पर्यटकों के लिये मंदिर भी बनवा रहा है और अब सऊदी भी धर्म निरपेक्ष होने जा रहा है और बिना पैसों के आतंकवाद भी नहीं फैला सकता और मेहनत से कमाए गए पैसे का इस्तमाल कोई आतंकवाद में नहीं कर सकता ये बात सऊदी ने भी मान ली है |