आखिर पाकिस्तान के इस क्रिकेटर को क्यों करनी पड़ी अपनी ही बहन से शादी पढ़िए पूरी खबर ?

Celebrities, Featured, अजब ग़ज़ब

क्या आपको पता है कि पाकिस्तान के क्रिकेटर शाहिद अफरीदी को आखिर क्यों करना पड़ा अपनी ही कजिन से शादी। आज हम आपको जो सच्चाई बताने जा रहे है उसे जानकर आप चौक जायेंगे और आपको बता दे कि इस क्रिकेटर को बचपन में ही एक टीचर से हो गया था प्यार। और आपको बता दे कि पाकिस्तान के क्रिकेटर शाहिद आफरीदी हल ही में भारत को स्वतन्त्रतादिवस कि बधाई देने समय सुर्खियों में नजर आये थे और यह देख हर कोई इनके इस काम कि तारीफ कर रहा था

और आपको बता दे कि शाहीदी अफरीदी को क्रिकेट के अल्वा सोशल सर्विस में भी काफी दिलचस्पी है और आपको बता दे कि उनके ही नाम से उनका एक NGO भी है जो कि समाज सेवा के काम करते रहता है । अब आपको बता दे कि कैसे हुआ था टीचर से पहली बार प्यार, एक टीवी इंटरव्यू के दौरान जब मिडिया ने इनसे सवाल पूछा तो शाहीद अफरीदी बताने लगे कि मुझे बचपन में ही प्यार हुआ था लेकिन वो कोई और नहीं उनकी टीचर ही थी और वो बेहद खूबसूरत थी । लेकिन फिर भी उन्हें अपनी कजिन से ही करनी पड़ी शादी कजिन मतलब अपने मामा कि बेटी के साथ शादी और आपको बता दे कि ये शादी लव मैरिज न होकर Arrange मैरिज ही किया

शाहिद ने बताया कि एक बार वह कुछ दिनों के लिए घर से बाहर गए थे और उसी समय अपने पिता से मस्ती करते हुए कह दिया था कि मेरे लिए लड़की ढूंढो लेकिन ये बात तो उन्होंने मजाक में ही कहा था जो कि उनके पिता सच समाज लिए और जब शाहीद घर पे लौटे तो उनके पिता ने कहा कि मैंने तुम्हारे लिए लड़की ढूंढ ली है और शाहिद ने कहा उस वक़्त में हैरान रह गया था और फिर मै उन्हें मुबारक बाद देंकर नीचे चला गया और उनके पिता ने जो लड़की इनके लिए ढूढी थी वह उनके मामा कि बेटी थी जिसका नाम नदिया था। और उसे वे बचपन से जानते थे आपको बता दे कि शाहिद और नदिया कि चार बेटिया है जिनका नाम अक्शा,अंशा अज्वा और अस्मारा है।

आपको बता दे को शाहिद अफरीदी कि शादी २२ अक्टूबर 2000 को हुई थी और उस वक़्त पाकिस्तान और इंग्लॅण्ड के बीच सीरीज चल रही थी और इसी वजह से शादी के अगले ही दिन शाहीद को पाकिस्तानी टीम के साथ खेलने जाना पड़ा और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि शादी के बाद का पहले ही मैच में उन्होंने पूरा तहलका मचा दिया और लाहौर में खेले गये मैच में उन्होंने हाफ सेंचुरी लगाई और 5 विकेट भी लिए थे और उन्हें उस मैच का मैंन ऑफ़ थे मैच भी चुना गया था।