देशद्रोह का अंत:अबकि बार मोदी सरकार का नारा देने वाले और DDन्यूज़ के रचयिता ने ख़रीदा NDTV

Business

पिछले दिनों NDTV की तरफ से खबर आई थी इस संस्थान में छंटनी की जा रही है। बहुत सारे लोगों को चैनल से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। जबकि NDTV देखने पर पता चलता था कि चैनल के पास बड़े ब्रांड वाले विज्ञापन थे ही नहीं? विज्ञापने देने वाली बड़ी-बड़ी कम्पनियों ने NDTV से परहेज करना शुरू कर दिया था।

स्पाइसजेट के चेयरमैन और MD अजय सिंह के पास NDTV के करीब 40 प्रतिशत शेयर होंगे। प्रणय रॉय और राधिका रॉय के पास करीब 20 प्रतिशत शेयर होंगे। बॉम्ब स्टॉक एक्सचेंज के जून 2017 तक के आंकड़ों के अनुसार NDTV में प्रमोटरों के पास 61.45 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वहीं 38.55 प्रतिशत हिस्सेदारी सार्वजनिक शेयरधारकों के पास है। कुल सौदा करीब 600 करोड़ रुपये में हुआ है। इस डील 100 करोड़ के लगभग केश रॉय दंपति को मिल सकता है।


NDTV के मालिक ने दावा किया था की चैनल बिकाऊ नहीं है पर आज कौडीयो के दाम में बिक गया

अजय सिंह ने जनवरी 2015 में स्पाइसजेट की कमान संभाली थी और उसे सफल बनाया था। दिल्ली के सेंट कोलंबा से पढ़े अजय सिंह IIT दिल्ली से बीटेक हैं। उन्होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से MBA की डिग्री ली है और DU से लॉ की पढ़ाई की है।

अजय सिंह अटल सरकार में प्रमोद महाजन के OSD थे। इस दौरान उन्होंने DD स्पोट्र्स और DD न्यूज को लॉन्च करने में भूमिका निभाई थी। अटल बिहारी वाजपेयी के ज़माने में अजय सिंह BJP के सामान्य सेवक थे, प्रमोद महाजन के क़रीबी। महाजन ने उन्हें अपना ओएसडी बनाया, नई संचार नीति बनाने का ज़िम्मा सौंपा था।

अजय सिंह 2014 में बीजेपी की चुनाव प्रचार की कोर टीम में शामिल थे। नरेन्द्र मोदी के सर जीत का सेहरा बांधने वाले अजय सिंह ने ही ‘अबकी बार मोदी सरकार’ का नारा दिया था।

NDTV का नया मालिक बनने के बाद अजय सिंह NDTV का 400 करोड़ रुपए का कर्ज का भार भी उठाएंगे। अजय सिंह के पास NDTV के करीब 40 प्रतिशत शेयर होंगे।
इंडियन एक्सप्रेस ने जब एनडीटीवी के सूत्र से पूछा कि क्या चैनल स्पाइसजेट के अजय सिंह को बेचा जा चुका है? तो जवाब मिला, “हाँ, सौदा पक्का हो चुका है और संपादकीय अधिकार के साथ चैनल का नियंत्रण अजय सिंह के हाथ में होगा।”