भाई के करियर को लेकर किया सवाल तो रो पड़े सनी देओल, किए कई खुलासे

Uncategorized

फिल्म ‘पोस्टर ब्वॉय’ रिलीज हो चुकी है। फिल्म में सनी देओल, बॉबी देओल और श्रेयस तलपड़े के काम की तारीफ हो रही है। इस फिल्म के जरिए करीब चार साल बाद बड़े पर्दे पर बॉबी की वापसी हुई है। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि पिछले 10 साल से वो काम मांग रहे थे, लेकिन प्रोड्यूसर्स उन्हें काम नहीं दे रहे थे। इस वजह से वे डिप्रेशन में चले गए थे। हाल ही में एक इंटरव्यू में बॉबी से जुड़े इसी सवाल को सनी से पूछा गया तो वो भावुक हो गए और रो पड़े। इंटरव्यू में किए कुछ और खुलासे…

सनी देओल ने इंटरव्यू के दौरान फैमिली और करियर को लेकर कई खुलासे किए। पिछले 10 सालों से बॉबी को काम न मिलने पर सनी बोले हमारी फैमिली काफी स्ट्रॉन्ग है और हम सब एक साथ है। जब भी किसी को तकलीफ होती है तो बुरा लगता है। बता दें कि बॉबी आखिरी बार 2013 में आई फिल्म ‘सिंह साहब द ग्रेट’ में नजर आए थे। इसमें भी उनका कैमियो रोल था।

सनी ने बताया कि उन्होंने बड़े बजट की कई फिल्में की है लेकिन उनकी फिल्मों में ज्यादातर छोटी एक्ट्रेसेस को ही साइन किया जाता था। सनी ने कहा, ‘यदि आप मेरे करियर को देखेंगे तो पाएंगे कि मैंने ज्यादातर बड़ी हीरोइन्स के साथ काम नहीं किया। मैंने फिल्म ‘घायल’ के लिए श्रीदेवी को अप्रोच किया था, लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया। एक अन्य फिल्म के लिए ऐश्वर्या राय को भी अप्रोच किया, उन्होंने भी मना कर दिया। मैंने कई बड़ी एक्ट्रेस को अप्रोच किया, लेकिन किसी ने मेरे साथ काम नहीं किया। हो सकता है कि उन्हें लगा हो कि ये मेल सेंट्रिक फिल्म हो जाएगी’।

2 नेशनल और 2 फिल्मफेयर अवॉर्ड जीतने वाले सनी देओल की अदायगी खूब पसंद की गई। अब वे खुद ही फिल्में प्रोड्यूस कर रहे हैं। बॉबी देओल की बात करें तो वो बॉलीवुड से जैसे गायब ही हो चुके थे। बॉबी चार साल पहले होम प्रोडक्शन की फिल्म में नजर आए थे। देखा जाए तो पिछले कुछ सालों में सनी देओल की फिल्में भी उनके अपने प्रोडक्शन हाउस से ही प्रोड्यूस की गई है। सनी देओल अपने बेटे करन देओल के करियर को लेकर भी चिंतित हैं।

वे चाहते हैं कि करन का बेहतर करियर बने। पहले उनके बेटे की लॉन्चिंग यशराज बैनर से किए जाने की चर्चा थी लेकिन अब वे खुद अपने बेटे को लॉन्च कर रहे हैं। सनी फिल्म ‘पोस्टर ब्वॉय’ से पहले 2016 में आई फिल्म ‘घायल वन्स अगेन’ में नजर आए थे। इस फिल्म के वे डायरेक्टर भी थे, लेकिन फिल्म सुपरफ्लॉप रही। उन्होंने ‘बेताब’ (1983), ‘सनी’ (1984), ‘अर्जुन’ (1985), ‘डकैत’ (1987), ‘त्रिदेव’ (1989), ‘चालबाज’ (1989), ‘घायल’ (1990), ‘लुटेरा’ (1993), ‘डर’ (1993), ‘जीत’ (1996) ‘बॉर्डर’ (1997) सहित कई हिट फिल्मों में काम किया।