क्या है HANDSOME होने का सही मतलब?

दूरदराज के एक गाँव में एक किसान रहता था. उसने सुना था कि उसके देश के राष्ट्रपति बड़े महान इंसान हैं. उसने मन ही मन उनकी एक तस्वीर बना रखी थी… एक लम्बा, खूबसूरत इंसान, राजसी ठाट-बाट वाला, जो चले तो लोग देखते रह जाएं, जो बोले तो लोग सुनते रह जाएं.

उसके मन में राष्ट्रपति को देखने की तीव्र इच्छा थी, पर बेचारा ऐसी जगह रहता था जहाँ अभी तक बिजली भी नहीं पहुँच पायी थी… उसने कभी टीवी या अखबार में भी राष्ट्रपति को नहीं देखा था.

लेकिन यदि मन किसी चीज को पूरी ताकत से चाह ले तो वो चीज होना तय है. एक दिन पता चला कि उसके गाँव से करीब 100 मील दूर खुद राष्ट्रपति आने वाले हैं. उसने फ़ौरन वहां जाने का निश्चय कर लिया… काफी दूर पैदल चलने और कई साधनों को बदलने के बाद आखिरकार वह तय दिन और समय पर राष्ट्रपति को देखने के लिए पहुँच गया.

भीड़ बहुत थी. हज़ारों लोग अपने प्रिय राष्ट्रपति की एक झलक पाने के लिए खड़े थे. किसान ने बगल में खड़े एक व्यक्ति से पूछा-

“क्या आपने कभी राष्ट्रपति को देखा है?”

“हाँ देखा है.” जवाब आया.

“वो दिखने में कैसे हैं?”

“कुछ ख़ास नहीं, बड़े साधारण से हैं.”

वे बात कर ही रहे थे कि जनता का शोर उनके कानो में पड़ा….राष्ट्रपति उनके बीच से होते हुए स्टेज पर जा रहे थे.

किसान ने देखा कि एक सामन्य कद का साधारण सा इंसान रेड कारपेट पे चलता हुआ आगे बढ़ रहा है. राष्ट्रपति उसकी मानसिक तस्वीर से बिलकुल अलग थे.

किसान अपने विचारों में खोया हुआ था कि तभी राष्ट्रपति उसके सामने रुके उससे हाथ मिलाया, हाल-चाल लिया और आगे बढ़ गए. उसे यकीन नहीं हुआ कि देश का राष्ट्रपति उससे दो शब्द बोल कर गया है…उसने फ़ौरन सोचा–

कौन कहता है मेरा राष्ट्रपति साधारण है…मैंने तो आज तक इससे असाधारण व्यक्ति नहीं देखा!

दोस्तों, वो शख्श कोई और नहीं भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे अब्दुल कलाम थे. इंसान अपने बाहरी रंग-रूप से महान या असाधारण नहीं होता, वो अपने अंदर की अच्छाई, काबिलियत , करुणा और प्रेम से असाधारण बनता है.

डॉ. कलाम ने एक बार भाषण देते हुए कहा भी था-

I am not handsome, but I can give my Hand To Some.

यानी मैं हैण्डसम नहीं हूँ लेकिन मैं कसी को अपना हाथ मदद के लिए दे सकता हूँ.

सचमुच Dr. A.P.J Abdul Kalam एक महान व्यक्ति थे जो सदैव दूसरों की मदद के लिए तैयार रहते थे. चलिए उनके जीवन से सीख लेते हुए हम भी सही मायने में HANDSOME बने, हम भी अपना हाथ कसी की मदद के लिए बढाने के लिए तैयार रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.