अलसी और पनीर का ये ड्रिंक कैंसर के रोगियों के लिए बन रहा है अमृत संजीवनी

आज हम आपको बता रहें हैं कैंसर के लिए एक बेहतरीन अलसी और पनीर का ड्रिंक, जिसको आप अपनी नियमित खुराक का हिस्सा बनायेंगे तो कैंसर में बहुत जल्दी आपको परिणाम मिलेंगे. यह ड्रिंक कैंसर की हो रही ग्रोथ को रोकने के साथ शरीर में खून की सप्लाई को बढाता है, और जहाँ पर भी कोई क्लोटिंग हुई है उसको नष्ट करता है.

इसके लिए आपको चाहिए घर पर निकला हुआ पनीर और अलसी का तेल. पनीर जहाँ तक संभव हो सके उन जानवरों के दूध से बनाया जाए तो खुद से जंगलों में या पहाड़ों पर चरने जाते हैं, इसके लिए बकरी या भेड़ बहुत बढ़िया विकल्प है. अगर आपको ऐसा कुछ नहीं मिले तो आप ऐसी देसी गाय जो स्वस्थ हो उसके दूध को घर पर फाड़ कर के पनीर बना लीजिये.

र्वप्रथम ऐसे पनीर में 2 चम्मच अलसी का तेल मिला कर इसको किसी ब्लेंडर की मदद से अच्छे से मिला कर दोबारा दूध जैसा कर लीजिये. अभी इसमें आप 2 चम्मच अंगूर का सिरका मिला लीजिये. बस बन गया आपका कैंसर किलर ड्रिंक. इस ड्रिंक को सुबह नाश्ते में लेना चाहिए.

यह विधि सर्वप्रथम योहाना बुडविग जी ने अपने कैंसर के रोगियों पर प्रयोग की थी, और उन्होंने इस से दस हज़ार से ऊपर कैंसर के ऐसे मरीज, जिनको डॉक्टर ने बोल दिया था के अभी इनके बचने की कोई आशंका नहीं है, उन सबको भी सही किया और आपको एक और बात बता दें के उन्होंने तकरीबन अपने सभी कैंसर के मरीज सिर्फ डाइट से ही सही कर दिए थे. और उनकी सफलता 90 प्रतिशत से ऊपर थी. ऐसा करने के पीछे उन्होंने बताया के पनीर में पाया जाने वाला प्रोटीन और अलसी के तेल में मौजूद ओमेगा 3, 6 और 9 यह मिलकर कैंसर की हो रही ग्रोथ को तुरंत रोकते हैं और उसको ख़त्म करने का काम तुरंत शुरू कर देते हैं. उन्होंने अलसी का तेल बिलकुल शुद्ध और ठंडी विधि से निकला हुआ ही लेने को बताया है.

तो आप भी इस प्रयोग को ज़रूर आजमायें और इसका फायदा लीजिये.

कैंसर में अलसी का अन्य प्रयोग.

सुबह नाश्ते के समय सही जमा हुआ दही (ध्यान रहे यहाँ सही इसलिए लिखा है के अगर दही सही अर्थात अधकचरा सा जमा हो तो यह ज़हर के समान है) उसमे भुनी हुई अलसी दो से चार चम्मच मिला कर सेवन करें. अलसी को पीस कर नहीं रखना चाहिए, अगर पीसना हो तो तुरंत पीस कर 10 मिनट के भीतर इसका सेवन कर लेना चाहिए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.