अपने घर के मंदिर से निकाल दें ये 2 चीजें, वरना हमेसा आपके घर होगी पैसो की कमी…

Hinduism, आध्यात्म

हर घर में देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान होता है। कई घर में अपने तरीके से छोटे या बड़े मंदिर बनाते है। हमें उनकी पूजा करने से सभी दुख-दर्द कम होता है साथ ही इससे आपके मन की शांति मिलती है। जिन धरों में विधि विधान से पूजा की जाए तो घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। जिससे घर की दरिद्रता दूर हो जाएगी, लेकिन कुछ जानकारी न होने पर हम कुछ गलतियां कर बैठते है जिससे कि घर में अशांति उत्पन्न होने लगती है।

देवी-देवताओं की विधि-विधान और सच्चें मन से की जाए तो भगवान जल्द ही प्रसन्न हो जाते है। हमारे देश में हजारों सालों से पूजा को विशेष महत्व दिया जाता हैं और हर किसी के घर में मंदिर का होना शुभ माना जाता हैं लेकिन आपको अपने घर के मंदिर में ऐसी चीजें नहीं रखनी चाहिए जो आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करें.

आज आपको बताते हैं घर के मंदिर में कौनसी वस्तुएं नहीं रखनी चाहिए और आप अगर ऐसा करेंगे तो आपके घर से नकारात्मक ऊर्जा चली जाएंगी.

1 – इस बात का हमेशा ध्यान रखें की आप अपने घर के मंदिर में कभी भी एक ही भगवान की दो तस्वीरें या प्रतिमाएं न रखें. ऐसा होने पर आपके शुभ कार्यों में अड़चन आने लगती है.

2 – वास्तु शास्त्र की मानें तो घर के मंदिर की दिशा हमेशा उत्तर या पूर्व में होनी चाहिए. इससे आपको अच्छे परिणाम मिलेगें.

3 – जिस स्थान पर आपने मंदिर को स्थापित किया हुआ है उस स्थान के आसपास शौचालय नहीं होना चाहिए.

4 – घर में मंदिर में रखी जानें वाली प्रतिमाएं भी बड़ी नहीं होनी चाहिए.

5 – इस बात का ध्यान रखें की पूजा के स्थान पर जो प्रतिमाएं या तस्वीरें आप रखते हैं वे खंडित नहीं होनी चाहिए.

हर घर में देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान होता है। कई घर में अपने तरीके से छोटे या बड़े मंदिर बनाते है। हमें उनकी पूजा करने से सभी दुख-दर्द कम होता है साथ ही इससे आपके मन की शांति मिलती है।

जिन धरों में विधि विधान से पूजा की जाए तो घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। जिससे घर की दरिद्रता दूर हो जाएगी, लेकिन कुछ जानकारी न होने पर हम कुछ गलतियां कर बैठते है जिससे कि घर में अशांति उत्पन्न होने लगती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मेन गेट से लेकर कमरे, रसोई घर, सीढ़ियां, बेडरूम और यहां तक कि घर का मंदिर भी वास्तु दोष रहित होना चाहिए। जिस तरह के से घर के अन्य स्थान महत्वपूर्ण है, ठीक उसी तरह घर का मंदिर भी एक अहम स्थान है। इसकी पवित्रता बनाए रखने के लिए यह जरूरी है कि यहां कोई वास्तु दोष जन्म ना ले पाए।

वास्तु-शास्त्र-के-नियम घर के मंदिर का स्थान, दिशा और मंदिर में किन-किन चीजों को शामिल किया जाए यह सब सोच समझकर कर ही करना चाहिए। एक बार अगर आपने सही दिशा में मंदिर की स्थापना कर ली है तो यह ना सोचें कि आगे के लिए कोई मेहनत नहीं करनी होगी।

हमेशा याद रखें ये नियम: घर के मंदिर में गंदगी नहीं फैलनी चाहिए, यहां धूल-मिट्टी ना बनने दें। इसके साथ ही मंदिर में आवश्यक रोशनी हो। मंदिर में अंधेरा होना शुभ नहीं माना जाता है। मंदिर में खंडित मूर्ति भी नहीं होनी चाहिए,

किंतु मूर्तियों के संदर्भ में एक और बात है जिसका आपको ख्याल रखना होगा और वह यह कि मंदिर में कुछ खास प्रकार की मूर्तियां नहीं होनी चाहिए।

भगवान शिव का अवतार माने गए भैरव देव की मूर्ति घर में नहीं लानी चाहिए और इसे लाकर मंदिर में तो कभी भी स्थापित ना करें। यूं तो ये भगवान शिव का ही अवतार माने जाते हैं लेकिन भैरव देव तंत्र विधा के देवता हैं और इनकी उपासना घर के भीतर ना होकर बाहर ही होनी चाहिए।

आपके कई बार नटराज की मूर्ति देखी होगी, यह देखने में बेहद आकर्षक लगती है लेकिन इसे घर में रखने की भूल ना करें। नटराज भगवान शिव का रौद्र रूप है यानि क्रोधित अवस्था और ऐसी मूर्ति घर में लाने से अशांति फैलती है।

सूर्य पुत्र शनि देव की मूर्ति को भी घर के मंदिर में नहीं रखना चाहिए। अगर आप इनकी पूजा करते हैं तो घर के बाहर किसी मंदिर में ही करें, इनकी मूर्ति घर में ना लाएं।