करोडो की गाडी और बँगला होने के बावजूद लगाती है ठेला ,कारण जानकर आपकी आँखे भर जायेगी

Uncategorized

समय बड़ा बलवान यह बात हर किसी को समझना चाहिय, कब अमीर आदमी रजा हरिश्चंद्र की तरह फ़कीर हो जाए और कब सडक चलता फ़कीर राजा हो जाये जीवन के इस उतार चड़ाव में सफल वही होता है जो बिपरीत समय में भी पांडवो की तरह अपना धैर्य नहीं खोता और नए रश्ते खोजता है .

सबको लगता है की ये  सारी बातें पुरानी  हो गई है और आज कल एसा कुछ भी सही में नही होता है भला कौन होगा जो अमीर भी रहे और अगर गरीब हो जाये तो उसमें भी कड़ी मेहनत करे लेकिन एसा नही है इस दुनिया एन बहुत कुछ होता है.

आज हम आप को एक ऐसी ही कहानी बता रहे है जिसका ३ करोड़ का घर है लेकिन वो कुलचे का ठेला लगती है. क्यों चौक गए न. चौकना भी चाहिए लेकिन ये कहनी है हौसले की हिमत की.

धीरे धीरे लोगों को पता चला

एक महिला जो छोले कुलचे बेचती है. इस महिला को देखकर लग रहा है कि इसके लिए पैसे कमाने के लिए किसी प्रोफेशनल काम करने की जरूरत नहीं है बल्कि छोले-कुल्चे बेचकर भी पैसे कमा सकती है. ये खबर लोगों में इसलिए चर्चित हो रही है क्योंकि महिला के इतने करोड़पति और एजुकेटेड होने के बाद भी महिला छोले-कुल्चे क्यों बेच रही हैं.

34 साल है उम्र

गुरुग्राम में 34 साल की उर्वशी यादव करोड़पति होने के बाद भी छोले-कुल्चे का ठेला लगाती हैं इसकी वजह जानकर आपके भी रोंगटे खड़े हो जायेंगे. उर्वशी को कोई आर्थिक परेशानी भी नहीं है लेकिन वो अपने शौक और बच्चों के अच्छे भविष्य के लिए ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना चाहती जिसके लिए उन्होंने टीचरी छोड़कर छोले-कुल्चे बेचना ज्यादा अच्छा समझा.

वहीं अगर उर्वशी की संपत्ती की बात करे तो उर्वशी का खुद का 3 करोड़ का बंगला और 2 एसयूवी कारें हैं. उर्वशी के पति अमित यादव एक बड़ी निर्माण कंपनी में ऐग्जिक्युटिव हैं और उनके ससुर भारतीय वायुसेना के रिटायर्ड कमांडर हैं. उसके बाद भी उर्वशी छोले-कुल्चे का ठेला लगाती हैं. इसकी वजह एक ये भी है कि कुछ समय पहले उर्वशी के पति का बहुत गंभीर एक्सीडेंट हो गया था. जिसकी वजह से उर्वशी नहीं चाहती है कि भविष्य में उनके दोनों बच्चों की पढ़ाई में कोई दिकत आये.

ये है वजह

यहां पर चौंकाने वाली बात ये है कि उर्वशी ने स्कूल में पढ़ना ठीक न समझकर छोले-कुल्चे बेचना सही समझा क्योंकि उन्हें लगता है इससे वो ज्यादा पैसे कमा सकती हैं उन्होंने ये खुद बताया कि वो छोले-कुल्चे बेचकर एक दिन में 2500 से 3000 तक कमा लेती हैं. लोग उनके छोले-कुल्चे की तारीफ भी खूब करते हैं. जिसकी वजह से उनके ठेके पर लोगों की भीड़ भी लगी रहती है.