जंजैहली में नहीं थमा गुस्सा,फोन पर ही मुख्यमंत्री के साथ अभद्र भाषा पर उतरे और देने लगे धमकियां,आखिर ये गुंडागर्दी किसके दम पर ?

Uncategorized

सरकार की पहल के बावजूद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के हलके सराज के जंजैहली में एसडीएम कार्यालय स्थानांतरित करने के विरोध में लोगों का गुस्सा शांत नहीं हो रहा है। गुस्साए लोगों ने बुधवार को जंजैहली चौक से कुथाह मेला मैदान तक मुख्यमंत्री के पुतले की शवयात्र निकाली।

सराज संघर्ष समिति ने सरकार को थुनाग एसडीएम कार्यालय की अधिसूचना 16 फरवरी तक रद करने की मोहलत दी है। 1समिति के अध्यक्ष नरेंद्र रेड्डी ने चेतावनी दी है कि ऐसा न होने पर बाहरी लोगों की जंजैहली में नहीं आने देंगे व बच्चों को भी स्कूल नहीं भेजेंगे। मंडल भाजपा अध्यक्ष शेर सिंह ने इस प्रकरण की निंदा की है।

प्रदर्शनकारियों ने बुधवार को एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री से बात की। इस दौरान वे अभद्र व्यवहार पर उतर आए व फोन पर ही मुख्यमंत्री को धमकाने लगे। मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया कि पूरे क्षेत्र का समान विकास होगा, लेकिन उन्होंने इसे दरकिनार कर दिया।आज मिल सकते हैं सीएम से संघर्ष समिति के पदाधिकारी वीरवार को मंडी में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मिल सकते हैं।

Image result for जय राम ठाकुर

मुख्यमंत्री अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव के शुभारंभ के लिए मंडी प्रवास पर आ रहे हैं।हाईकोर्ट ने थुनाग के लोगों की याचिका पर जंजैहली में एसडीएम कार्यालय बंद करने का आदेश दिया था, जिस पर यहां के लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था। सरकार ने लोगों को शांत करने के लिए 12 फरवरी को एसडीएम थुनाग को माह में चार दिन जंजैहली में बैठने की अधिसूचना जारी की थी।

मंडी आ रहे सीएम जयराम ठाकुर को यहां विरोध का सामना करना पड़ सकता है। विरोध करने वाले कोई और नहीं बल्कि सीएम के गृहक्षेत्र जंजैहली में प्रदर्शन कर रहे लोग ही हो सकते हैं। सराज संघर्ष समिति ने इस बात के संकेत दिए हैं। आज सीएम जयराम ठाकुर के पुतले की शवयात्रा निकालने के बाद समिति की बैठक जंजैहली में हुई, जिसमें आगामी आंदोलन की रूपरेखा तैयार की गई।

बैठक में अधिकतर लोगों ने वीरवार को मंडी जाकर सीएम को काले झंडे दिखाने की बात कही। समिति के अध्यक्ष नरेंद्र रेड्डी ने बताया कि लोगों ने अपने स्तर पर जाकर ऐसा विरोध करने की बात जरूर कही है!