रिक्शेवाले ने बचाई थी इस लड़की की जान,पर 8 साल बाद इस तरह हुआ इन दोनों का सामना जिसकी कल्पना किसी ने नही की थी !

Uncategorized

दुनिया बहुत बड़ी है हर दिन दुनिया के सभी देशों में कुछ ना कुछ सुनने को देखने को मिलता रहता है लेकिन आजकल जब कभी भी कोई खबर आती है तो सिर्फ उस खबर में बुराई ही नजर आती है लेकिन आज हम जो कहानी आपको बताने जा रहे हैं उसे जानने के बाद आप भी यह बात कहोगे कि अभी भी लोगों के अंदर अच्छाइयां बची हुई है ।

यह कहानी कोई नाटक नहीं है ना कोई फिल्मी कहानी है यह एक सच्ची कहानी है इस कहानी के सभी पात्र और घटनाएं बिल्कुल सच्ची हैं अक्सर आपने ऐसी कहानी TV पर फिल्मों और नाटकों में देखी होंगी लेकिन आज हम आपको यह कहानी यह बताने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप भी हैरान रह जाओगे।

यह कहानी एक रिक्शे वाले और एक लड़की से जुड़ी हुई है जिन्हें किस्मत ने मिलाया और दोनों में फिर कुछ ऐसा रिश्ता बन गया जो कि आज पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बन चुका है।

जिस रिक्शा वाले की हम बात कर रहे हैं उसका नाम बबलू है आज से करीब 8 साल पहले उसने एक लड़की की जान बचाई थी वह लड़की ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या करने का प्रयास कर रही थी लेकिन इस रिक्शे वाले बबलू ने उस लड़की को आत्महत्या करने से बचा लिया था और उस वजह से वह लड़की उस रिक्शा वाले के ऊपर काफी गुस्सा भी हुई थी और उसने डांटते हुए उस रिक्शे वाले को कहा था जिंदगी में मुझे कभी दोबारा मत मिलना लेकिन वह कहते हैं ना किस्मत में जो लिखा होता है वही होता है उस लड़की की जान उस से भी बचने थी क्योंकि उसकी मौत नहीं आई हुई थी और यह रिक्शा वाला फरिश्ता बनकर उस लड़की को बचाने के लिए पहुंचा था।

Image result for तन्हाई

हालांकि इस बात को 3 साल हो चुके हैं और वह रिक्शावाला भी इस बात को भूल चुका था लेकिन अचानक वह रिक्शावाला उस समय हैरान रह गया जब वह उस लड़की से तकरीबन 8 साल बाद दोबारा मिला 8 साल बाद जब बबलू अस्पताल के एक बेड पर बीमार पड़ा था और उस समय वह लड़की उसकी जिंदगी में दोबारा वापस आए और फिर यह कहानी आज दुनिया के सामने आई है।

Image result for लड़की ट्रेन वॉलपेपर

इस कहानी को एक Facebook यूज़र ने सोशल साइट पर शेयर किया है और यह बिल्कुल एक सच्ची कहानी है बबलू को एक आदमी ने अपनी बेटी को कॉलेज ले जाने के लिए नौकरी पर रखा था एक दिन जब उसकी लड़की बबलू के साथ जा रही थी तब अचानक वो रिक्शे से  उतर गई और कुछ दूर जाकर वह रोने लगी और थोड़ी देर बाद आत्महत्या करने के लिए रेलवे ट्रैक की तरफ दौड़ पड़ी थी जिसे रिक्शे वाले ने देख लिया था और उसने उसकी जान बचा ली थी।

8 साल बाद जब बबलू का एक्सीडेंट होता है और  उसे अस्पताल में भर्ती करवाया जाता है लेकिन जब उसे हो जाता है तो वह पूरी तरह चौक जाता है क्योंकि उसके सामने भी लड़की खड़ी होती है जिसको उसने मरने से बचाया था लड़की ने उस रिक्शा वाले बबलू से कहा कि आप मुझसे दोबारा मिलने घर नहीं आए थे और जिस लड़की की जान उसका रिक्शेवाले ने बचाई थी वह लड़की आज डॉक्टर बन चुकी थी और वह लड़की आज उस रिक्शे वाले बबलू का इलाज कर रही थी।

Image result for डॉक्टर

सोचिए जरा उस वक्त उस लड़की को वह मरने से नहीं बचाता तो क्या यह लड़की आज जिंदा होती और डॉक्टर बन पाती आत्महत्या किसी भी चीज का कोई रास्ता नहीं है कोई मुश्किल आती है जिंदगी में तो उससे लड़ना सीखना चाहिए क्योंकि जिंदगी एक बार मिलती है और इसकी हमें इज्जत करनी चाहिए।